लिखित भजन डायरी

लिखित भजन डायरी

लिखित भजन डायरी

जन्मे अवध में राम मंगल गाओ री
दो सबको ये पैगाम घर घर जाओ री
जन्मे अवध में राम मंगल गाओ रीकौशल्या रानी को सब दो बधाई
आई रे आई घडी शुभ ये आई
मिलके चलो रघु धाम
संग मेरे आओ री
मिलके चलो रघु धाम
संग मेरे आओ री

जन्मे अवध में राम मंगल गाओ री
दो सबको ये पैगाम घर घर जाओ री

राम लला के दर्शन करलो
पग पंकज पे माथा धरलो
पावन है इनका नाम
पल पल ध्याओ री
पावन है इनका नाम
पल पल ध्याओ री

जन्मे अवध में राम मंगल गाओ री
दो सबको ये पैगाम घर घर जाओ री

दशरथ के अंगना बजी शहनाई
दुल्हन के जैसी अयोध्या सजाई
खुशियों की है ये शाम
दीप जलाओ री
खुशियों की है ये शाम
दीप जलाओ री

जन्मे अवध में राम मंगल गाओ री
दो सबको ये पैगाम घर घर जाओ री

लिखित भजन डायरी

हमारे धर्म ग्रंथों की अनसुनी कहानी , भजन की pdf, और ज्ञानवर्धक चर्चा सुनने के लिए हमारे इस ग्रुप में जल्दी join ho जाएं, यहां आध्यात्म के अलावा और कोई फालतू बात नहीं होती https://chat.whatsapp.com/J8DmhFf4cucFkku4aiTr1s

https://whatsapp.com/channel/0029VaZyoESHltY2nYxyFS2S

https://youtube.com/@shubahmkandpal8484?si=L-Lye5QYMUTWc-Ad

https://www.facebook.com/profile.php?id=61557436984703&mibext

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *